युवा वही, जो शरारती है, सपने देखे, लेकिन दीवानगी में जान गंवाना अच्छा नहीं

Posted on: Monday, January 16, 2017

अाध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर ने स्टूडेंट्स को जिंदगी के कई टिप्स बताए। उन्होंने कहा- युवा होने के तीन लक्षण हैं, शरारती होना, सपने देखना और किसी एक उद्देश्य को लेकर दीवानगी होना। यदि ये तीनों बातें किसी में नहीं हैं तो वो युवा नहीं है। पागल हुए बिना किसी एक उद्देश्य को लेकर दीवाने हो जाओ। दीवानगी होना अच्छी बात है, लेकिन किसी के पीछे पागल होकर जान गंवाना सही नहीं है।

कोचिंग स्टूडेंट्स और टीचर्स से खचाखच भरे कॉमर्स काॅलेज के ग्राउंड में बच्चों को तनाव दूर कर उत्साह से जीवन देने के लिए ये टिप्स रविवार को आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्रीश्री रविशंकर ने उत्साह कार्यक्रम में दिए। उन्होंने कहा कि जीवन एक उत्सव है।

Source: Dainik Bhaskar


Connect with Art of Living Universe
Facebook | Twitter | Instagram | FREE Subscription | Website